chandigarh भारत का एक अनोखा शहर

,chandigarh से जुडी कुछ हम जानकारिया

Play Sound

Information : हेलो दोस्तों आज मैं आप सबको chandigard के बारे में हम जानकारी देंगे . आप में से बोहोत से लोग chandigard घूमने तो बोहोत बार गए होंगे पर हो सकता है आपको chandigard से जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में जानकारी न हो . तो आइये जानते है कुछ chandigard से जुडी खास बाते .

क्या आप जानते है chandigard इंडिया का पहला वेल प्लांड सिटी है . इसका आर्किटेक्ट स्विस फ्रेंच आर्किटेक्ट ल कार्बूजियर ने बनायीं थी . ये शहर दुनिया भर में अपने आर्किटेक्ट के लिए मशहूर है ! chandigard की होसिंग स्कीम्स को डिज़ाइन करने का श्रये चंडीगार्ड कैपिटल प्रोजेक्ट टीम को जाता है जिसके हेड ल कार्बूजियर थे. 2015 में बीबीसी द्वारा प्रकाशित किये गए एक आर्टिकल के अनुसार chandigard कल्चरल ग्रोथ , मॉडर्नाइजेशन के हिसाब से दुनिया के परफेक्ट शेरू में एक है . चंडीगार्ड आज से ही नहीं आज से 5000 साल पहले से ही विकित शहर है क्या आप जानते है . यहाँ 5000 साल पहले हड़पा सभ्यता के लोग रहा करते थे . chandigard के पास बसे हुए शहर है पंजाब का मोहाली और हरयाणा का पंचकूला इसीलिए इन तीनो शहरों को मिलाकर ट्रॉयसिटी भी कहा जाता है chandigard का ट्रैफिक सिस्टम भी बोहोत ही अच्छा है और ये आज से नहीं जब से chandigard बसा है तब से ट्रैफिक सिस्टम ऐसा ही है . ये भारत के बोहोत ज्यादा हरयाली वाले शहरों में से भी एक है ऐसा इलिये है क्यों की ये शहर वेल प्लांड कर के बनाया गया था . chandigard सिटी का सिंबल एक ओपन हैंड है इसे ल कार्बूजियर ने बनाया था ये सिंबल शांति समृद्धि और एकता का प्रतिक है ! चंडीगार्ड में किसी भी शहर का नो सेक्टर-13 नहीं है . क्यों की 13 नंबर को यहाँ के लोग अशुभ मानते है . इसीलिए यहाँ कभी sector-13 बनाया ही नहीं गया . चंडीगार्ड को नोटिस भारत और पाकिस्तान के विभाजन के वक़्त किया गया क्यों की विभाजन से पहले पंजाब की राजधानी लाहौर था फिर बाद में chandigard को पंजाब की राजधानी बनाया गया . दोस्तों चंडीगार्ड में घूमने लायक बोहोत सी जगह है . पर यहाँ बना रॉक गार्डन दुनिया भर में मशहूर है नेक चंद सैनी दवारा इससे बनाया गया है और आप ये जान कर हैरान होंगे के इस गार्डन को बनाने में हुए इस्तेमाल साड़ी चीज़े waste Material से ली गयी है . और नेक चंद जी ने ये सारा waste मटेरियल अपनी साइकिल पे ढोया था . सुखना लेक भी चण्डीगढ के मशहूर पर्यटक सथलो में से एक है . ये लेक तकरीबन 3 KM के एरिया में फैली हुई है इसकी एवरेज डेप्थ 8 फ़ीट और मैक्स 16 फ़ीट है . ये लेक इंसानो द्वारा बनायीं गयी है ये प्राकृतिक नहीं है . चंडीगार्ड के लोग गाड़ियों के भी बोहोत शौंकीन है . यहाँ गाड़ियों का रेश्यो बाकि शहरों के मुकाबले ज्यादा है . यहाँ एक मार्किट मनीमाजरा के नाम से भी प्रसिद्ध है जहा रविवार के दिन second हैंड cars का car bazaar लगता है .

131