म्यांमार में हिन्दुओ की सामूहिक कब्रे मिली

,म्यांमार की सेना ने किया दवा

Play Sound

Information : म्यांमार की सेना ने दावा किया है कि हिंसाग्रस्त क्षेत्र रखाइन स्टेट से 28 हिंदुओं की सामूहिक कब्र मिली है। सेना के दावों के मुताबिक रोहिंग्या मुस्लिम आतंकियों ने इन हिंदुओं का कत्ल किया है। हालांकि स्वतंत्र तौर पर म्यांमार सेना के इस दावे की पुष्टि नहीं हो पाई है। सेना प्रमुख की वेबसाइट पर पोस्ट किये हुए बयान में कहा गया कि सुरक्षा सदस्यों को 28 हिंदुओं के शव मिले और उन्हें निकाला गया। पोस्ट के मुताबिक रखाइन राज्य में अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA) के आतंकियों ने काफी क्रूर और हिंसक तरीके से इन हिंदुओं की हत्या की है। म्यांमार सरकार का दावा है कि ARSA समूह ने पुलिस चौकियों पर हमले किये, जिसके बाद सेना ने इतना बड़ा अभियान चलाया कि संयुक्त राष्ट्र का मानना है मुस्लिम अल्पसंख्यकों का सफाया हुआ है।

एक महीने के भीतर ही इस क्षेत्र से 430000 से ज्यादा रोहिंग्या शरणार्थी के रूप में बांग्लादेश भागने के लिए मजबूर हुए हैं। इलाके में रहने वाले करीब 30000 हिंदू और बौद्ध भी विस्थापित हुए। इनमें से कुछ का कहना है कि रोहिंग्या आतंकवादियों ने उन्हें डराया-धमकाया। सेना ने कहा है कि सुरक्षा अधिकारियों को कब्रों में 20 महिलाएं और आठ पुरुषों के शव मिले हैं। इनमें से छह लड़कों की उम्र दस साल से कम थी। म्यामांर सरकार के प्रवक्ता जाव ह्ते ने भी रविवार को 28 शव मिलने की पुष्टि की है। उत्तरी रखाइन में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्होंने प्रत्येक जगह पर 10 से 15 शवों को दफनाया हुआ था। सेना प्रमुख ने कहा है कि जिस गांव में शव मिले हैं उसका नाम 'ये बाव क्या है' जो उत्तरी रखाइन में हिंदू और मुसलमान समुदायों की बस्ती 'खा मायुंग सेइक' के निकट है। इलाके के हिंदुओं ने एएफपी को बताया कि आतंकवादी 25 अगस्त को उनके गांवों में घुस थे। उन्होंने अपने सामने आने वाले कई लोगों की हत्या कर दी और कुछ अन्य को अपने साथ जंगल ले

137