नासा ने खोजा पृथ्वी जैसा गृह

,वैज्ञानिक भी है हैरान

Play Sound

Information : वैज्ञानिक लगतार मनुष्य जाती को भविष्य के खतरों को देखते हुए बचाने के लिए पृथ्वी जैसा गृह ढूंढने में लगे रहते है और शायद अब उन्हें इसमें कमजाबी भी मिल गयी है दोस्तों हमारा ब्रह्माण्ड अजीबो गरीब ग्रहों से भरा पड़ा है, जिनकी निरन्तर खोजे होती है लेकिन आज हम आपको एक ऐसे प्लेनेट के बारे में बातएंगे जिसे दूसरी पृथ्वी कहा जा रहा है । ये प्लेनेट पृथ्वी की तरह ही है खगोलविदों ने एक और धरती खोजने का दावा किया है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने सौरमंडल के बाहर अपनी धरती के आकार का ऐसा ग्रह खोजने में कामयाबी हासिल की है, जहां जीवन की संभावनाएं हो सकती हैं और वैज्ञानिक इससे लेकर काफी उत्साहित है यह ग्रह आकार-प्रकार और वातावरण के लिहाज से काफी कुछ धरती जैसा है। धरती की ही तरह वहां की सतह चट्टानी है और वह पहाड़ भी है । खास बात यह कि तापमान भी धरती जैसा ही है या इससे थोड़ा ही ठंडा है। नासा के केपलर टेलिस्कोप ने इस ग्रह को पृथ्वी से करीब 500 प्रकाश वर्ष की दूरी पर गोल्डीलॉक्स इलाके में सिग्नस तारामंडल में खोजा है। एक प्रकाशवर्ष तकरीबन 6 खरब मील के बराबर होता है।

केपलर-186एफ ग्रह अपने सूरज के इर्द-गिर्द ऐसी कक्षा में घूमता है, जो हमारी धरती की तरह अपने सितारे से न तो बहुत दूर है और न ही बहुत नजदीक। इसलिए इसकी सतह पर भी पानी का उसी तरह वजूद हो सकता है, जैसा कि अपनी पृथ्वी पर है। कुल मिलाकर यह ग्रह निवास करने लायक क्षेत्र में है। इससे पहले तक जो भी ग्रह ऐसे इलाकों में खोजे गए थे, वे सभी धरती से कम से कम 40 फीसदी बड़े थे और उनकी बनावट को समझना भी काफी चुनौतीपूर्ण था। लेकिन केपलर-186एफ बिल्कुल पृथ्वी की तरह है। सबसे बेहतरीन ग्रह: नासा के खगोलभौतिकी विभाग के डायरेक्टर पॉल हर्ट्ज के मुताबिक, यह खोज अपनी धरती जैसे ग्रहों को खोजने की ओर बड़ा कदम है। हालांकि अभी तक इस ग्रह के आकार का ही पता चला है। इसका भार क्या है और यह किस चीज से बना है, इस बारे में जानकारी नहीं है। उम्मीद है कि इसकी सतह चट्टानी होगी। मॉफेट फील्ड स्थित नासा के अमेज रिसर्च सेंटर में साइंटिस्ट एलिसा क्विंटाना उम्मीद जताती हैं कि तुलनात्मक रूप से धरती जैसे इस ग्रह का जीवन योग्य इलाके में मिलना बेहद अहम है। पोस्ट अछि लगे तो शेयर जरूर करे .

204