नवरात्री के नो दिनों का महत्व

,क्या आप नवरात्री का महत्व जानते है

Play Sound

Information : नमस्कार दोस्तो हिन्दू धर्म में नवरात्री का बोहोत ही महत्व माना जाता . नवरात्री एक हिन्दू पर्व है और ये एक संस्कृत शब्द है इसका मतलब होता है 9 राते इन 9 दिनों के दौरान शक्ति या देवी के 9 रूपों की पूजा की जाती है . दसवा दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है नवरात्री साल में चार बार आता है .नवरात्री की 9 रातो में महालष्मी , सरस्वती और दुर्गा के 9 रूपों की पूजा की जाती है . दुर्गा का मतलब दुखो को हरने वाली होता है और नवरात्री पूरे भारत में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है .

आइये जानते है माता के 9 रूपों के बारे में पहला रूप सैल पुत्री है जिसका मतलब पहाड़ो की पुत्री होता है दूसरा रूप है ब्रम्ह्चारिणी तीसरा रूप है चंद्रघंटा जिसका मतलब है चाँद की तरह चमकने वाली चौथा रूप है कुसमुंडा जिसका मतलब है पूरा जगत उनके पैर में है पांचवा स्वरुप है इस्कंद माता जिसका अर्थ है कार्तिक की माता छठा रूप है कात्यायनी जिसका अर्थ है कात्यान आश्रम में जन्मी सातवा रूप है कात्यायनी जिसका अर्थ है काल न नाश करने वाली अथवा रूप है महागौरी जिसका अर्थ है सफ़ेद रंग वाली माँ नव्मा रूप है सिद्धि दात्री जिसका अर्थ है सर्व सिद्धि देने वाली . सर्व प्रथम श्री राम जी ने इस पूजा का प्रारम्भ समुद्र तट के किनारे पूजा कर कर किया था और उसके बाद दसवे दिन लंका विजय के लिए प्रस्थान किया और विजय प्राप्त की तब से अधर्म पे धर्म की जीत का पर्व दसहरा मनाया जाने लगा . नवरात्री के दौरान हर दिन अलग अलग क्रम से माता की पूजा की जाती है

251