क्या है बिटकॉइन और क्या है इसके फायदे और नुक्सान

,क्यों है दुनिया की सबसे ताकतवर करेंसी

Play Sound

Information : बिटकॉइन वर्चुअल करेंसी है इसे हम नोट की तरह या सिक्को की तरह नहीं रख सकते ये ऐसी करेंसी है जिसका कोई भी फिजिकल स्वरुप नहीं है . इसका लेन देन इंटरनेट से ही चलता है . बिटकॉइन के कहते को हैंडल करने के लिए आपको पासवर्ड दिया जाता. जिससे आप बिटकॉइन को बेच अथवा खरीद सकते है . खरीदार और विक्रेता दोनों के बिच लेन देन इसी खात्ते से होता है . बिटकॉइन की कीमत विक्रेता और खरीदार के मध्य तय की जाती है और उसी कीमत पर इससे बेचा जाता है . बिटकॉइन एक करेंसी की तरह ही काम करता है इससे आप ऑनलाइन शोपिंग से ले कर किसी भी तरह का लेन देन कर सकते है . बिटकॉइन और फिजिकल करेंसी में अंतर सिर्फ यही है के इसमें कोई केंद्रीय बैंक नहीं है जो की इसकी कीमत निर्धारित करे और इससे छापे.

बिटकॉइन सट्टे बाजो में बोहोत ही लोकप्रिय है . अगर आप क्रेडिट कार्ड से शोपिंग करते है तो आपको 2 से 3 परसेंट अतिरिक्त धन देना पड़ता है . बिट कॉइन में ऐसा कुछ भी नहीं है और कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना पड़ता जिससे विक्रेता और खरीदार दोनों आकर्षित होते है इसकी तरफ . इसका एक बड़ा फयदा ये भी है के इसमें लेन देन में पूरी तरह पारदर्शिता है और खरीदार और विक्रेता की पहचान सार्वजानिक किये बिना लेन देन की जानकारी सार्वजानिक रहती है . बिटकॉइन के जहा फायदे है वह इसके नुक्सान भी है बिटकॉइन चोरी होने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है . बोहोत से हैकर्स आप को बिना पता चले अपने अकाउंट में आपके बिटकॉइन ट्रांसफर कर सकते है . इसके लिए सिर्फ उन्हें आपके पासवर्ड की जानकारी होनी चाहिए जो की एक इनक्रिप्टेड फाइल के रूप में आप को दिया जाता है . आपके बिटकॉइन चोरी होने पर आप किसी तरह की शिकायत भी नहीं दर्ज करवा सकते . इसलिए आपका वही पैसा बिटकॉइन में लगाए जिसकी आपको अधिक जरूरत न हो . बिट कॉइन की आज भारत में वैल्यू 1094419.10 है . आप यही से अंदाजा लगा सकते है के इसकी लोक प्रियता किस कदर दुनिया में बढ़ रही है . पर अभी तक आधिकारिक तोर पर किसी भी देश की सरकार ने इसे मान्यता नहीं दी है . और जिन्होंने दी भी है उनकी भी कुछ कंडीशंस है . अब आप ही तय करे आपको इसमें निवेश करना है या नहीं .

143